SPACEXSTN

Welcome to the world of factual information about space and universe. I hope you read my articles and if you have any questions and also want any other information related to my articles then comment down in comments section and if you like my work then please subscribe, share and do follow.
".

7.जानिए आखिर चीन क्यों डरा हुआ है रूस से ?



Indian PM and the china PM



जानिए आखिर चीन क्यों डरा हुआ है रूस से ?

आज भारत और चीन के तरफ से सयुंक्त-सचिवो के बिच  होगी वर्चुअल बातचीत। भारत की और से सयुंक्त सचिव होंगे नवीन श्रीवास्तव वहीं  चीन की तरफ से होंगे डिजी (सीमा विभाग) बातचीत करेंगे। भारत-चीन के बिच राजनीतिक और कूटनीतिक स्टर की वार्ता  होगी। एलऐसी विवाद  को लेकर बैठक में  मंथन। दोनों देशो का यह मानना  है की बात चित कर के मामला सलटाया जा सकता है। पहले बात हो चुकी थी पर चीन अपने कदम पीछे हटाने  को तैयार नही। 
       दोनों सेनाओ  का दिसंइगजगमेंट स्टेप वाइज क्लैरिफाई  होगा सब डिटेल। सेना प्रमुख का दूसरा दिन है आज । भारत-चीन मसले पर लद्दाख में आर्मी चीफ पे आया तनाव।अच्छी बात यह है कि दोनों तरफ से सैन्य नित्य,सैन्य बातचीत,कूटनीतिक बातचीत का संतुलन रखने का पूरा प्रयास है।
   भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रूस दौरे पर है।राजनाथ सिंह आज मॉस्को के बड़े आयोजन में सम्मिलित है। कल राजनाथ सिंह रूस के प्रधान मंत्री से मुलाकात की थी।दोनों देशों के बीच रक्षा सौदों पर बातचीत हुई।लेकिन एल ए सी पर तनाव को मद्दे नजर चीन इस मुलाकात से चिड़ा हुआ है।यह दौरा पहले से ही तय था पर इस समय राजनाथ सिंह की एहेम भूमिका है।भारत रूस की मुलाकात में चीन बौखला गया है।
भारत रूस का एक स्पेशल हैंडेड प्रिविलेज पार्टनरशिप वाला रिलेशनशिप है।भारत रूस का एक ऐतिहसिक संबंध है।
    रूस ने भारत को S-400 मिसाइल डिफेन्स सिस्टम जल्द सप्लाई करने का वादा किया है।दोनों देशों के बीच 5 अरब डॉलर का समझोता अक्टूबर 2018 में हो चुका है।सौदे के तहत रूस भारत को 5S-400 सिस्टम सप्लाई करेगा जिसकी डिलीवरी अगले वर्ष से शुरू हो जाएगी।इसके अलावा दोनों देशों में SU30MkI और मिग 29 विमान पर भी बात चित चली और AK-203 राइफल,हल्के हेलकॉप्टर समेत कई हथियार और उपकरणों पर भी बातचीत चल रही है।चीन को भारत रूस के मुलाकात से ऐतराज़ है कि चीन कम्युनिस्ट पार्टी के मुख्य पद पेपर देने में रूस से अपील करदी है कि ऐसे हालात में रूस भारत को हथियार की सप्लाई ना करे लेकिन सच यह है कि संबंध की कोठनिती रूस को किसी से सीखने की जरूरत नहीं है।रूस कभी भी भारत के खिलाफ नहीं जाएगा।रूस साथ देता था,देता है और आगे भी देगा।

The aircraft


click here:

ऐसा कौनसा हथियार है रूस के पास जिससे चीन डर गया है?:
    जिस हथियार से  डरा है चीन उस हथियार का नाम है S- ४०० डिफेंस सिस्टम।यह हथियार हवे में ही विस्फोटक विमानों जैसे विमान और मिसाइल को मार गिराता है।इस हथियार को सबसे ख़तरनाक मिसाइल डिफेंस सिस्टम में उपाधि मिल चुकी है।इसकी ताकत का राज छुपा है इसमें लगी तीन तकनीक।
१:मिसाइल लॉन्चर
२:शक्तिशाली रेदार सिस्टम
३:कमांड सेंटर
    इसकी रफ्तार ६०० किलोमीटर तक को अपने टारगेट को पहचान सकता है।यह एक साथ १०० से ३०० टारगेट को ट्रैक कर सकता है।यह मिसाइल ४०० किलोमीटर की मारक क्षमता  रखता है।इसकी मारक क्षमता इतनी अचूक है कि एकसाथ ३ दिशाओं में दाग सकता है और हवा में उड़ते ३६ टारगेट को एक बार में ही बना सकता है अपना निशाना और मिसाइल और ड्रोन के हमले को टाल सकता है।इतना ही नहीं यह एस ४०० सिस्टम,मिसाइल की स्तिथि में खुद एक्टिवेट हो जाता है और दुश्मन की मिसाइल को या लड़ाकू विमानों को हवा में उसको ध्वस्त कर सकता है।
     भारत चीन की लड़ाई में हमें यह भी ध्यान देना है की हम क्या क्या चीन का सामान प्रयोग कर रहे है।अगर हिन्दुस्थान को जीतना है और चीन को हराना है तो हमें बस एक ही चीज करना होगा।हमें बॉयकॉट करना है चीन का सामान।अगर हम चीन का सामान का बॉयकॉट करेंगे तो यह हमारी सबसे बड़ी जीत होगी।और अगर चीन का सामान बॉयकॉट हो गया तो चीन कमा नहीं पाएगा और उसकी इकोनॉमी नीचे हो जाएगी।
     चीन ने कोरोना वायरस को फैलाया और इंडिया पे अटैक किया यह सब चीन की चाल है जिससे भारत तेहेस नेहेस हो जाए।


Previous
Next Post »

3 comments

Click here for comments
24 June 2020 at 19:21 ×

Its very useful and informative post. Thanks for giving such post connected with Quora .

Reply
avatar
SP SIR
admin
28 June 2020 at 17:25 ×

It's Too Good.
Improve it.
Keep it up

Reply
avatar